Indian Railway : इस ट्रैन को आप साइकिल से भी पछाड़ देंगे, 5 घंटे में चलती है सिर्फ इतने किलोमीटर

आज के दौर में जब भारत ही नहीं बल्कि सारी दुनिया स्पीड ट्रेन की दीवानी हो रही है। भारतीय रेलवे भी हर दिन कोई न कोई वंदे भारत एक्सप्रेस लॉन्च कर रही है या तेज ट्रेन लांच कर रही है और भारत में बुलेट ट्रैन पर भी काम चल रहा है। पर इस बीच भारत में एक ऐसी ट्रेन भी है जो कि काफी स्लो चलती है। दरअसल, तमिलनाडु में एक ट्रेन काफी स्लो चलती है और ज्यादा दूरी भी तय नहीं करती लेकिन समय काफी अधिक ले लेती है। दोस्तों आपको जानकार हैरानी होगी कि ये ट्रैन और कहीं नहीं बल्कि भारत में ही है और वो भी दार्जिलिंग के पहाड़ी क्षेत्रों में चलती है। आइये इस जरुरत से ज्यादा धीमी चलने वाली ट्रेन के बारे में विस्तार से जानते हैं।

भारतीय रेलवे की भारत की सबसे धीमी ट्रेन का नाम

असल में मेट्टुपलयम ऊटी नीलगिरि पैसेंजर ट्रेन भारत की सबसे धीमी ट्रेन है, जो 10 किमी प्रति घंटे की गति से चलती है. यह भारत की सबसे तेज चलने वाली ट्रेन की तुलना में लगभग 16 गुना धीमी है.

ख़ास बात ये है कि Mettupalayam Ooty Nilgiri Passenger Train लगभग पांच घंटे में 46 किमी की दूरी तय करती है. पर इसकी धीमी रफ्तार के पीछे कारण यह है कि यह पहाड़ी क्षेत्र में चलती है. दरअसल, दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे के विस्तार के रूप में ट्रेन को संयुक्त राष्ट्र निकाय यूनेस्को के जरिए विश्व विरासत स्थल घोषित किया गया है।

असल में ये यूनेस्को की वेबसाइट के अनुसार, नीलगिरि माउंटेन रेलवे का निर्माण पहली बार 1854 में प्रस्तावित किया गया था, लेकिन पहाड़ी स्थान की कठिनाई के कारण काम 1908 में ही पूरा हो सका। यूनेस्को ने यह भी कहा कि यह रेलवे 326 मीटर से 2203 मीटर की ऊंचाई तक पहुंचती है, जो उस समय की नवीनतम तकनीक का प्रतिनिधित्व करती है।

पथरीले इलाके और पहाड़ी स्थानों से गुजरती है ये ट्रेन

IRCTC के मुताबिक ये मेट्टुपलयम ऊटी नीलगिरि पैसेंजर ट्रेन अपने 46 किलोमीटर के सफर के दौरान कई सुरंगों और 100 से ज्यादा पुलों से होकर गुजरती है. पथरीले इलाके, चाय के बागान और घने जंगलों वाली पहाड़ियां ट्रेन से यात्रा करने को काफी खूबसूरत बनाती हैं. सबसे शानदार दृश्य मेट्टुपालयम से कुन्नूर तक के विस्तार के साथ स्थित है. ये ट्रेन हर रोज मेट्टुपलयम से ऊटी के बीच हर रोज चलती है.

मेट्टुपलयम ऊटी नीलगिरि पैसेंजर ट्रेन रनिंग स्टेटस

यह ट्रेन मेट्टुपालयम से रोज सुबह 7.10 बजे रवाना होती है और दोपहर 12 बजे ऊटी पहुंचती है. आईआरसीटीसी ने कहा कि वापसी यात्रा के दौरान ट्रेन दोपहर 2 बजे ऊटी से शुरू होती है और शाम 5.35 बजे मेट्टुपलयम पहुंचती है. इस रास्ते पर मुख्य स्टेशन कुन्नूर, वेलिंगटन, अरवंकडु, केट्टी और लवडेल हैं. ट्रेन में प्रथम श्रेणी और द्वितीय श्रेणी दोनों सीटें हैं. तो दोस्तों आपको जब कभी भी मेट्टुपालयम या ऊटी जाना हो तो इस ट्रेन में अवश्य बैठें। और इस ट्रैन के लाजवाब सफर के लिए हमें धन्यवाद देना न भूलें।

Image Credit – Whc.unesco.org

इन्हे भी देखें – जलकुंभी से दूषित पानी को करीब 70% तक शुद्ध किया जा सकेगा, राष्ट्रीय शर्करा संस्थान ने विकसित की तकनीक, पहले से बहुत कम लागत

इन्हे भी देखें – एलआईसी की इस LIC New Jeevan Shanti स्कीम में लगायें बस इतने रूपये और हर महीने मिलेंगे 11 हजार से ज्यादा की रकम

इन्हे भी देखें – सावधान रहे ये मिमिकरी करने वाला AI टूल बस 3 सेकंड में कॉपी कर लेता है किसी की भी आवाज, ऑनलाइन स्कैम बढ़ने का खतरा

इन्हे भी देखें – कहीं हो न जाये आपका भी ट्रांजैक्शन Block इसलिए आज ही जाने Google Pay, PhonePay और Paytm की डेली लिमिट

इन्हे भी देखें – बाप रे! बीड़ी-सिगरेट के खोखे का हर महीने क‍िराया 3.25 लाख रुपये, ये वैल्यू है Commercial Property की इस लोकेशन पर

इन्हे भी देखें – Auto Sweep Facility : बस करना होगा इतना सा काम और मिलेगा सेविंग्स अकाउंट पर मिलेगा FD जितना ब्याज

इन्हे भी देखें – Basmati Rice : अब कोई दुकानदार नकली बासमती से बेवकूफ नहीं बना पायेगा, FSSAI ने पहली बार बताई असली बासमती चावल की पहचान

Leave a Comment